हाल ही में जयपुर की इस लड़की ने की विष्णु भगवान से शादी, पढ़े पूरी खबर..

दुनियाभर में कई चौकाने वाली चीजें होती रहती हैं। अब हाल ही में भी ऐसा ही हुआ है। जी दरअसल यह मामला 30 साल की पूजा सिंह से जुड़ा है जो जयपुर की गोविंदगढ़ के पास नरसिंहपुरा गांव की रहने वाली है। पूजा सिंह ने हाल ही में विष्णु भगवान से शादी कर ली गई और सभी को हैरान कर डाला है। बीते 8 दिसंबर को पूजा सिंह ने विष्णु भगवान से शादी कर ली और अपनी मांग भरकर सुहागन हो चुकीं हैं। आपको बता दें कि पूजा सिंह का कहना है कि वह लोगों के तानों से परेशान थी। उन्होंने पहले ही ठान लिया था कि उनको शादी नहीं करनी। पति-पत्नी के झगड़े को देखकर उसने सोच लिया था कि मैं शादी नहीं करुँगी हालाँकि समाज में उसे लोग ताने कसने लगे। इन तानों से बचने के लिए पूजा सिंह को एक उपाय खोज लिया। आपको बता दें कि 30 साल की पूजा सिंह ने गांव के मंदिर में विराजमान ठाकुरजी से शादी कर ली।

यह शादी 8 दिसंबर को हुई। वहीं इस शादी के बाद पूजा अपने घर पर ही रहती हैं और ठाकुरजी मंदिर में पूजा उनके लिए सवेरे भोग बनाकर ले जाती हैं। उनके लिए पोशाक बनाती हैं और शाम को दर्शन के लिए जाती है। पूजा सिंह का कहना है, ”मेरी उम्र 30 साल हो चुकी है। अमूमन 20 से 25 साल की उम्र में लड़कियों की शादी कर दी जाती है। मेरे घर में भी इसकी सुगबुगाहट शुरू हो चुकी थी। अक्सर रिश्ते आते रहते थे। लोग मेरे मम्मी-पापा को कहने लगे थे कि बेटी की अब तो शादी कर दो, लेकिन मेरा मन इसके लिए तैयार नहीं था। मैंने बचपन से ही देखा है कि बेहद मामूली बात पर पति-पत्नी के बीच झगड़े हो जाते थे, विवादों में उनकी जिदंगी खराब हो जाती थी और इनमें महिलाओं को बहुत ही बुरी स्थिति का सामना करना पड़ता था।”

उसके बाद आगे उन्होंने बताया- ”बड़ी होने के साथ मैंने निर्णय कर लिया था कि मैं शादी नहीं करूंगी। मैं मम्मी-पापा को बता चुकी थी कि मुझे शादी नहीं करनी है, बीच में कुछ लड़के वाले देखने भी आए, एक दो बार तो रिश्ता जैसे-तैसे टल गया।इसी बीच मैंने तुलसी विवाह के बारे में सुनकर फैसला कर लिया। मैं तुलसी विवाह के बारे में सुन रखा था। एक बार अपने ननिहाल में देखा भी था। सोचा कि जब ठाकुरजी तुलसीजी से विवाह कर सकते हैं तो मैं क्यों नहीं ठाकुरजी से विवाह कर सकती। मैंने इसके बारे में पंडित जी से पूछा तो उन्होंने भी कहा कि ऐसा हो सकता है। इसके बाद मां से बात की शुरू में तो वे बोली कि ऐसा कैसे हो सकता है, लेकिन फिर मान गई। जब हमने पापा को बताया तो वे नाराज हो गए और साफ मना कर दिया। नाराजगी के कारण पापा इस शादी में भी नहीं आए। समाज ने मजाक उड़ाया, लेकिन मैंने परमेश्वर को पति मान लिया। समाज में भी बहुत से लोगों ने सपोर्ट किया और बहुत से लोगों ने मजाक भी बनाया, लेकिन मुझे उनकी चिंता नहीं है।” आपको बता दें कि पूजा सिंह और ठाकुरजी का यह विवाह सभी रीति रिवाजों से हुआ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 1 =

Back to top button